indian railway kitchen  – भारतीय रेल मंत्रालय द्वारा यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा के लिए कई सराहनीय कदम उठाए जा रहे हैं। टिकट बुकिंग का मुद्दा हो, ट्रेनों की लेटलतीफी का मुद्दा हो या फिर ट्रेनों और स्टेशनों पर मिलने वाले खाद्य सामानों के दामों का मुद्दा हो रेलवे मंत्रालय ने हाल में इन सभी पर काम किया है। इसी कड़ी में अब रेलवे मंत्रालय यात्रियों की तरफ से आने वाली सबसे ज्यादा शिकायतों पर काम करने जा रहा है। कल्पना करें कि रेलवे की आईआरसीटीसी किचन में खाना बनाने की प्रक्रिया को लाइव दिखाया जाए तो आप कैसा महसूस करेंगे। दरअसल ये सच होने जा रहा है।

 

indian railway kitchen

 

(indian railway kitchen) किचन की लाइव वीडियो देख सकते हैं यात्रीगण

रेलवे में मिलने वाले खाने को लेकर अक्सर यात्रियों को शिकायत रहती है। इस संबंध में रेल मंत्रालय को कई शिकायतें मिलती रहती है, कई बार खाने में पत्थरों की शिकायत तो कभी खाने में कीड़े मिलने की शिकायत। भारतीय रेलवे खाने की लगातार शिकायतें आने के बाद इसमें सुधार के लिए कुछ खास कदम उठाने जा रहा है। रेलवे ने तय किया है कि अब इसके बेस किचन में खाना बनने और उससे जुड़ी प्रक्रियाओं की लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग की जाएगी, ताकि लोग देख सकें कि उनका खाना साफ-सफाई के साथ तैयार हो रहा है या नहीं।

 

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को ये जानकारी दी। रेल मंत्री ने कहा, यात्री अब आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर रेलवे के किचन का लाइव विडियो देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम एक ऐसा ऐप बनाने पर काम कर रहे हैं जहां से यात्री ट्रेन के किचन में क्या बन रहा है और कैसे बन रहा है इस पर लाइव नजर रख सकेंगे।’ रेल मंत्रालय द्वारा रेल यात्रा को अधिक सुरक्षित और साथ ही यात्रियों के लिए सफर को आरामदेह बनाने के लिए कई योजनाएं शुरू की जा रही हैं।

IRCTC के 16 किचन में कैमरे लगाए गए

जानकारी के मुताबिक, इस योजना के तहत अब तक आईआरसीटीसी के 200 बेस किचन में से 16 में कैमरे लगाने का काम पूरा कर दिया गया है। इनमें दिल्ली, मुंबई और भुवनेश्वर के आईआरसीटीसी किचन शामिल हैं। रेल मंत्री के मुताबिक, एआई (आर्टिफिशल इंटेलिजेंस) विजन डिटेक्शन सिस्टम और आईआरसीटीसी की तरफ से एक नये मॉड्यूल के तहत ये काम किया जा रहा है। एआई का यह मॉड्यूल एसओपी (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रॉसिजर) के जरिए कैमरा फुटेज में कैद हुई किसी भी प्रकार की अनियमितता को बारीकी से पकड़ सकने में सक्षम होगा।

रेलवे मंत्रालय की इस पहल से यात्रियों को असलियत और वास्तविकता के बीच फर्क करने में आसानी होगी, साथ ही सीधे तौर पर रेलवे की सुविधाओं से जुड़ पायेंगे। इससे उन्हें ये भी फायदा होगा कि किसी भी तरह की अनियमितता देखे जाने पर वे तुरंत इसे पकड़ पायेंगे और इसपर अपनी शिकायत दर्ज करा सकेंगे।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here