चलिए पता करते है की , भारत में एक नोट छापने की क्या कीमत है

आज हम बात करने जा रहे है की भारत  के रुपयों को छापने में भारत सरकार किनता खर्च करती है और कैसे तय होता है की कितने नोट छापे जाएगे चलये पता करते है की What is the cost of printing Indian currency note

साल 2016 के नवबर के महीने में जब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा था। की आज से पुराने 500 और 1000 के note मान्या नहीं होगे नरेंद्र मोदी सरकार दुराव कहा गया था। की आज से 2000 note का इस्तेमाल होगा पर देश में अभी किसी को नहीं पता था ही 2000 note कैसा है वह जनता के लिए बिल्कुल नया था अब लोगो के मन में बस एक सवाल था ही इनती जल्दी यह नये note कैसे छ्पेगे चलये हम आपको बताते है।

केवल इन लोगो के हाथ में होता है नोटों की छपाई का जिम्मा

भारत सरकार के नियमो के अनुसार केवल भारत के सबसे बड़े बैंक रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया को ही भारत के नोटो को छापने का अधिकार है। इसके चलते भारत के सारे नोटो को रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया के प्रेस में ही छापा जाता है। पर रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया भारत के एक ररुपए का नोट नहीं छापते इसका जिम्मा किसी और के हाथ में है।

 

यहा होती है एक रुपये के नोटो की छपाई

एक रुपए का नोट जब रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया नहीं छापते तो यह नोटो की छपाई कौन करता है। एक रुपये का नोट और सिक्के बनाने का अधिकार वित्त मंत्रालय के पास होता है यह वजह है, की एक रुपए के नोट पर गवर्नर की जगह, वित्त  सचिव के हस्ताक्षर होते है वित्त मंत्रालय एक रुपए के नोट और सिक्के बनने के बाद रिजर्व बैंक को भेज दिया जाता है।

 

500 रुपए के नोट पर छपाई खर्चा

वित्त राज्य मंत्री पी.राधाकृष्णन का कहना है नोटबंदी के बाद से 8 दिसंबर तक 500 रुपए के कुल 1,695.7 करोड़ नए नोट छापे गए है। और 500 रुपए के 1,695.7 करोड़ नोट छापने में rbi को 1,293.6 करोड़न रुपए का खर्चा आया है। इन आकड़ो के हिसाब से है एक नोट की छपाई में लगभग 2.94 रुपए खर्च हुए है।

 

200 रुपए के नोट को छापने में  किया गया खर्चा

rbi की जानकारी के मुताबिक 8 दिसम्बर तक 200 रुपए के कुल 178 करोड़ रकम के नोट छापे गए है। जिनकी छपाई में कुल 522.8 करोड़ रुपए खर्च किए गए है 200 रुपए के एक नोट को छपने में लगभग 2.93 रुपए खर्च हुए है।

 

2000 रुपए के नोट पर खर्चा

rbi ने 2000 के कुल 365.4 करोड़ नोट छापे है जिन्हें छापने के लिए कुल 1293.6 करोड़ रुपए खर्च हुए है। और एक 2000 के नोट को छापने में 3.54 रुपए का खर्च आया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *